press-vani
  • press-vani
  • press-vani
  • press-vani
ad
स्पेशल स्टोरी
press-vani

छोटे परिवार - उपेक्षित परिवार

— अनिल चतुर्वेदी — सभी पाठकों को-नए साल की हार्दिक शुभकामना इस जनवरी अंक में हम जो मुद्दा प्रमुखता से उठा रहे हैं, उसे लेकर हमारे ऊपर मनुवादी, कुलीन जाति की सोच और न जाने क्या-क्या तोहमत लग सकती हैं। सम्पादकीय की शुरुआत मैं जिस उदाहरण के साथ करने वाला हूं, उसे पढकर तो मुझे सीधे-सीधे अगड़ी मानसिकता...

press-vani

परिवार नियोजन की उल्टी चाल ने बढ़ाए वोटबैंक

— आभा शर्मा — प्रधानमंत्री ने परिवार नियोजन अपनाने वालों की भावना को देशभक्ति से जोड़ते हुए उनके योगदान को सराहा है। यह सही है कि दशकों पहले बहुत से साधन संपन्न और शिक्षित लोगों ने, यहाँ तक कि बहुत से माध्यम वर्गीय परिवारों ने भी अपने परिवार सीमित रखने का स्वत: स्फूर्त निर्णय लिया था। अस्सी के...

press-vani

चिंगारी न भडक़े

— अनिल चतुर्वेदी — नागरिक(संशोधन) बिल-2019 (सीएबी) को लेकर अचानक देशभर में आग भडक़ गई। बिल पर अल्पसंख्यकों की नाराजगी तो समझ में आती है, लेकिन युवा वर्ग के आक्रोशित होने की वजह केवल यह बिल नहीं हो सकती। उनके भीतर बेरोजगारी और अनिश्चित भविष्य को लेकर खदबदा रही ज्वाला बिल विरोध के बहाने बाहर निकली है।...

press-vani

दिल्ली की शिक्षा क्रांति

— विनोद वाष्र्णेय — समस्या माने जाने वाली भारत की विशाल जनसंख्या का सुखद पहलू यह है कि उसमें बच्चों की संख्या बहुत है। इसे अर्थशास्त्री ‘डेमोग्राफिक डिविडेंड’ की संज्ञा देते हैं जिसका अर्थ है कि देश में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने की क्षमता अच्छी है। लेकिन बच्चों की अधिक सँख्या का तभी कोई...