press-vani
  • press-vani
  • press-vani
  • press-vani
ad
स्पेशल स्टोरी
press-vani

चिंगारी न भडक़े

— अनिल चतुर्वेदी — नागरिक(संशोधन) बिल-2019 (सीएबी) को लेकर अचानक देशभर में आग भडक़ गई। बिल पर अल्पसंख्यकों की नाराजगी तो समझ में आती है, लेकिन युवा वर्ग के आक्रोशित होने की वजह केवल यह बिल नहीं हो सकती। उनके भीतर बेरोजगारी और अनिश्चित भविष्य को लेकर खदबदा रही ज्वाला बिल विरोध के बहाने बाहर निकली है।...

press-vani

दिल्ली की शिक्षा क्रांति

— विनोद वाष्र्णेय — समस्या माने जाने वाली भारत की विशाल जनसंख्या का सुखद पहलू यह है कि उसमें बच्चों की संख्या बहुत है। इसे अर्थशास्त्री ‘डेमोग्राफिक डिविडेंड’ की संज्ञा देते हैं जिसका अर्थ है कि देश में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने की क्षमता अच्छी है। लेकिन बच्चों की अधिक सँख्या का तभी कोई...

press-vani

सडक़ों पर देश आखिर कब तक?

-प्रेसवाणी डेस्क - कुछ समय पहले तक देश में एक नारा चल रहा था-‘मेरा देश बदल रहा है, आगे बढ़ रहा है।’ परन्तु देश का मौजूदा माहौल आगे बढऩे वाला तो किसी भी दृष्टि से नहीं लग रहा। हर ओर आक्रोश, विरोध और आशंकाओं का कोहरा छाया है। सरकार का एक निर्णय जो सीधे जनता से जुड़ा है और उस पर पूरी तरह साफ स्थिति न होने...

press-vani

बवाल खत्म

— अनिल चतुर्वेदी — अयोध्या मसला हल हो गया। राम मंदिर की जमीन के इस विवाद को निपटाने में न जाने कितनी पीढियां खप गईं। सुप्रीम कोर्ट ने मैराथन सुनवाई की। उसके बाद फैसला सुनाया, जिसमें न्याय से ज्यादा आस्था का पुट समाहित रहा। इसे एक नजरिये से कह सकते हैं कि शीर्ष कोर्ट ने देश की अपार जनभावना के मद्देनजर...