press-vani
  • press-vani
  • press-vani
  • press-vani
बढी असभ्यता, बिगड़ी बोली
April 19, 2019


devendra garg
केन्द्र की मोदी सरकार के मौजूदा कार्यकाल की शुरूआत से लेकर अब आमचुनाव के वक्त सिर्फ नेता ही जहर नहीं उगल रहे हैं, विभिन्न दलों के समर्थक भी कड़वे बोल बेखौफ निकाल रहे हैं। फेसबुक, ट्विटर आदि सोशल माडिया प्लेटफार्म ऐसे लोगों के भद्दे कमेंटों से भरे पड़े हैं। ये आमजन अपनी प्रतिक्रियाओं में जिस अभद्र और घटिया भाषा का इस्तेमाल कर रहे, उससे आश्चर्य होता है कि क्या देश में भद्रजन का टोटा पड़ा गया है !! आखिर सोशल मीडिया कंपनियां क्या कर रहीं हैं, उनको या चुनाव आयोग व पुलिस को लोगों की बेहूदगी नजर नहीं आ रही है !!
जनता-जनार्दन की जुबान किस कदर बिगड़ चुकी है, इसके चंद नमूने यहां दिए जा रहे हैं।---ट्विटर पर नेहा बंसल, जो इनदिनों खुद को चौकादीर भी लिख रही हैं, पूर्व टीवी एंकर आशुतोष के एक ट्वीट पर रिएक्ट करतीं हैं--आशुतोष जी, आप पत्रकार हो या केजरीवाल के चमचे? सुना है आप केजरीवाल के फ़ेंकी हुई हड्डियों पे अपना गुजारा करते हो। गले में पट्टा बांध ही लिया है तो कृपया एक बार "भौं भौं" करके दिखाइए ना। यही नेहा बंसल महिला पत्रकार सबा नकवी के लिए लिखती हैं...स्वघोषित पत्रकार या केजरीवाल के फेंके बिस्कुट पे पलने वाली चाटुकार?
एक अन्य चौकीदार तृप्ति, जो अपने को 'हिंदु शेरनी' बताती हैं, लिखती हैं...मेरे फॉलोवर्स लिस्ट में 25℅ मुल्ले है, जो मुझे ट्रोल करने के लिए फॉलो करते है...पर उनको ये नहीं पता #महाकट्टर_हिन्दू हूँ, जिस दिन मेरी खोपड़ी का डायरेक्शन चेंज हुआ...उस दिन चिथड़े-चिथड़े उधेड़ दूंगी सारे मुल्लों के...
इसी प्रकार राजपूत¬_रमेश नाम के वैरीफाइड अकाउंट से रमेश सोलंकी अभिनेत्री स्वरा भास्कर के ट्वीट के जवाब में कहते हैं, देखो कौन बोल रहा है..कन्हैया की पाथ ब्रेकर अम्मा...भारत तेरे दुकड़े वाला चलता है...पर एक बेगुनाह औरत नहीं चलती...स्वरा कितनी गिरोगी अब तो हद हो गई।
एक किरण जुपाली हैं, वो आलिया भट्ट की मां और अभिनोत्री सोनी राजदान को लिखते हैं, दफा हो ब्रिटिश नागरिक...तुम्हारे लिए भारत में ज्ञान बांटने को कोई जगह नहीं है...
एक और चौकीदार हैं-दीक्षा पांडेय। वो एनडीटीवी के न्यूज एंकर रवीश के लिए लिखती हैं, रवीश कुमार...कौन जात हो भाई ?? केजरीवाल-थूकचट्टे हैं हम। ओमेंद्र ‘भारत’ नाम के शख्स कवि डा. कुमार विश्वास के ट्वीट के जवाब में लिखते हैं, आपकी कलम का मुरीद हूँ.. इस कदर आप धो देते हो.. कि कुछ बचता नहीं...पर भईया ये थूकचट्टा वंश के लोगों की चमड़ी, दमड़ी डकार-डकार के बहुत मोटी हो चुकी है...इनका एकै इलाज है, जनता के भीगे जूतों के सोट्टे...में हचक -हचक पड़े....2019 से 20 तक और पड़ेंगे औ ये जमीन में गड़ेंगे।

 
Comments:
  • personal injury attorney Atlanta
    April 20, 2019

    Hello, just wanted to tell you, I loved this article. It was
    helpful. Keep on posting! https://mrlawman.com

Leave a Reply

Recent Posts