press-vani
  • press-vani
  • press-vani
  • press-vani
'अप्रैली' अटैक
April 26, 2019


devendra garg
पंडित जी ने अपने सियासी जीवन की पहली पाला-बदली की। किंतु त्याज्य दल वाले इसे स्वीकार नहीं कर पाए। पड़ गए पीछे। किसी न किसी तरह उनको अपना बताने लगे। सोशल मीडिया जिंदाबाद, इसका सहारा लिया गया। वह भी एक अप्रैल को। संदेश किया गया वायरल। पंडित जी बोलते बताए गए कि..भले ही वे भक्तों से दूर हुए हैं, लेकिन प्रधानसेवक अभी भी मन में बसे हैं। चुनाव में वे उनका ही प्रचार करेंगे।
संदेश से जितना हो सका भ्रम फैलाया गया, बाकी 'माउथ-पब्लिसिटी' हुई। भक्तगण एक-दूजे से पूछते रहे—संदेश देखा क्या। नहीं...तो तुरंत जाकर देखो। बात पंडित जी तक पहुंची। संदेश की सच्चाई जांची गई। पता चला कि संदेश के आखिर में, बारीक सा 'एपीएल' लिखा गया है।
पर काम तो हो ही गया....पंडित जी बना दिए गए नव-विवाहिता। अब देते रहें सफाई। अपनों को और नए घरवालों को। गऱ कार-सेवकों की 'फेकोलॉजी' हो उजागर तो... 'अप्रैल-फूल' है ही संकट हरने को।

 
Leave a Reply

Recent Posts