press-vani
  • press-vani
  • press-vani
  • press-vani
...तब होगा ड्रामा
May 20, 2019


devendra garg
मध्य प्रदेश में आमचुनाव बाद बड़े ड्रामे के आसार बन रहे हैं। यदि प्रधानसेवक केन्द्र में बने रहे तो राज्य सरकार हिल सकती है। नहीं हिली तो नेतृत्व परिवर्तन का नजारा बन सकता है। कांग्रेस नेतृत्व राज्य की राजपूत लॉबी की मजबूती से विचलित बताया जाता है। लॉबी दिग्गी राजा के मार्ग-निर्देशन में फल-फूल रही है।
ऐसे में राजा को ही वहां से हटाने के इरादे से उन्हें चुनाव में उतारा गया है। जीते तो दिल्ली प्रवास, हारे तो शांत हो घर बैठो। अगर वो दिल्ली गए तो उनके शागिर्द नाथ का भोपाल में क्या काम। उन्हें भी केन्द्र में स्थापित करने की सोची जा सकती है।
ये तब संभव होगा, यदि केन्द्र में राज परिवर्तन होगा। वहां भले ही कोई राजा बने, लेकिन कांग्रेस आलाकमान मध्य प्रदेश में दिग्गी बिना सरकार चलाने के पूरे मूड में दिखाई देता है। क्योंकि अगर वो बने रहे औऱ नेतृत्व परिवर्तन की कवायद हुई तो वो ताजपोशी के लिए पुत्र को सामने कर सकते हैं।
कांग्रेस नेतृत्व विधानसभा चुनाव के पहले से ही दिग्गी राजा को प्रदेश की सियासत से दूर रखने के लिए पूरा जोर लगा रहा है। लिहाजा लोकसभा चुनाव के नतीजे माफिक रहने पर पार्टी जरा भी देर नहीं करेगी, अपनी चलाने में। ऐसा जानकारों का अनुमान है। पार्टी अपनी मुराद पूरी करते हुए ग्वालियर नरेश को राज्य सरकार की बागडोर सौंप सकती है। उनका सरकार का मुखिया बनना विधानसभा चुनाव के समय ही तय लग रहा था। पर दिग्गीराजा ने भांजी मार दी। कुर्सी पर बिठवा दिया अपने खास नाथ को। अबकी बार सारी लाइनें 'क्लियर' करके ही ग्वालियर नरेश को सत्ताधीश बनाने के पुख्ता इंतजाम होंगे। अंदरखाने सुगबुगाहट यही है।

 
Leave a Reply

Recent Posts