press-vani
  • press-vani
  • press-vani
  • press-vani
घंटेभर में कमजोर पड़ता कोरोना वायरस

कोरोना से बचाव को लेकर एक अमेरिकी विशेषज्ञ ने कई महत्वपूर्ण बातें कही हैं। डॉ. लियो गैलेंड का कहना है कि उन्होंने ये सारी जानकारियां इस वजह से दी हैं, क्योंकि इस बीमारी को लेकर कई तरह की भ्रांतियां लोगों के बीच पनप रही हैं।
डॉ. गैलेंड के अनुसार चीन के वुहान से मिले आंकड़ों के मुताबिक सभी संक्रमित लोगों में से 80 प्रतिशत को मामूली बीमारी हुई थी। 15 प्रतिशत लोग को थोड़ी-बहुत दिक्कत का सामना करना पड़ा था। जैसे खांसी, कफ, बुखार और सांस लेने में तकलीफ। सिर्फ 5 प्रतिशत ही लोग ऐसे थे जिन्हें गंभीर इलाज की आवश्यकता पड़ी।
कोरोना के बारे में कहा जा रहा है कि ये इंसानों में इंसानों के जरिेए ड्रॉपलेट के जरिए पहुंचता है। यानी छींक या खांसी की वजह से। इस ड्रॉपलेट का असर हवा में तीन से चार घंटे तक रहता है। लेकिन अमेरिका के नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ की स्टडी के अनुसार हवा में ये वायरस 66 मिनट के भीतर अपनी आधी ताकत खो देता है।
गैलेंड के अनुसार कोरोना वायरस इंसान के मल में भी मौजूद होता है। इस वजह से खाने या पानी से भी इसका संक्रमण हो सकता है, लेकिन अभी तक इसके मामले सामने नहीं आए हैं। कोरोना वायरस सतह पर भी कई दिनों तक बना रह सकता है, लेकिन अभी तक सतह के जरिए इंफेक्शन फैलने के मामले सामने नहीं आए हैं।
गैलेंड ने कहा है कि सामान्य फ्लू से इतर कोरोना वायरस के लक्षणों की शुरुआत थकान, दर्द और गले में खरास या दर्द के साथ शुरू होती है। इसके लक्षण दिखने में 2 से 14 दिनों का वक्त लगता है। औसतन ये लक्षण पांच दिन में दिखाई देते हैं। इसके बाद रिकवरी शुरू हो जाती है, लेकिन रिकवरी पहले स्वस्थ लोगों की ही शुरू होती है। जिन लोगों में पहले से कोई गंभीर बीमारी है या फिर वो उम्रदराज हैं तो फिर इसके लक्षण और गहराते जाते हैं।
गैलेंड ने जोर देकर कहा है कि यही कारण है कि युवा और स्वस्थ लोगों को भी खुद को आइसोलेट रखना चाहिए। क्योंकि संक्रमण की स्थिति में वो तो ठीक हो जाएंगे, लेकिन घर में मौजूद कोई बीमार या उम्रदराज व्यक्ति इसकी कीमत चुका सकता है।
अभी तक इस बात की तस्दीक भी नहीं हो सकी है कि एक बार होने के बाद कोरोना किसी को दोबार हो सकता है या नहीं। ऐसे भी मामले सामने आए हैं, जब संक्रमित व्यक्ति दोबारा बीमार पड़ गए हैं। ऐसा इसलिए भी हो सकता है कि उनका इलाज ठीक तरीके से न हुआ या वो पूरी तरीके से स्वस्थ न हुए हों।

press-vani
हम लोगों की बात...
press-vani ad