press-vani
  • press-vani
  • press-vani
  • press-vani
ट्रायल के दौरान ड्रोन रास्ता भटके

जैसलमेर की चांदण फायरिंग रेंज में गुरुवार को सेना को ट्रायल दिखा रही निजी कंपनियों के तीन ड्रोन रास्ता भटक गए। बाद में इनमें से एक ड्रोन मिल गया, जबकि दो अन्य ड्रोन की लोकेशन मिल चुकी है, उनकी तलाश में टीमें भेजी गई है। ये ड्रोन मध्यम आकार के है और इनका उपयोग सर्विलांस के साथ ही आपदा प्रभावित क्षेत्रों में सीमित मात्रा में राहत पहुंचाने के लिए किया जा सकता है।
सैन्य सूत्रों का कहना है कि सेना के लिए इन दिनों नए ड्रोन खरीदने की कवायद के तहत देश की कुछ निजी कंपनियां अपने ड्रोन का फायरिंग रेंज में डेमो कर रही थी। सुबह डेमो के दौरान तीन ड्रोन अपनी दिशा भटक कर काफी दूर निकल गए। उनका नियंत्रण कक्ष से संपर्क भी टूट गया। बाद में उनकी तलाश में टीमों को भेजा गया। एक करीब 65 किलोमीटर दूर मिला, जबकि दो अन्य ड्रोन की लोकेशन काणोद के समीप मिली है। इनकी तलाश में टीमों को भेजा गया है। इन ड्रोन के प्रदर्शन के आधार पर सेना इनकी खरीद का ऑर्डर देगी।
आमतौर पर सेना सीमा पर निगरानी के लिए बड़े ड्रोन यानि मानव रहित विमानों का उपयोग करती है। अब बदली परिस्थितियों में सेना मीडियम साइज के ड्रोन खरीदने पर विचार कर रही है। इन ड्रोन का मल्टीपरपज उपयोग संभव है। इनके माध्यम से किसी सीमित क्षेत्र में सर्विलांस किया जा सकता है।

press-vani
हम लोगों की बात...
press-vani ad