press-vani
  • press-vani
  • press-vani
  • press-vani
राजस्थान मॉडल की चर्चा विदेशों में

भीलवाड़ा मॉडल के बाद अब दुनियाभर में राजस्थान मॉडल की सराहना की जा रही है। दुनिया के विभिन्न हिस्सों और महाद्वीपों से राजस्थान लौटे प्रवासीजन ये जानकारी दे रहे हैं। ये लोग सालों से विदेश में रह रहे थे। इनमें बड़ी संख्या उन युवा भी हैं जो कजाकिस्तान, यूक्रेन, किर्गीस्तान, रशिया जैसे देशों में मेडिकल की पढाई कर रहे थे। कोई तीन साल से वहां पढाई कर रहा था तो कुछ को गए कुछ ही माह हुए थे।
इन सभी ने अपने प्रदेश के भीलवाड़ा मॉडल, एसएमएस अस्पताल द्वारा कोरोना के इलाज के लिए चार दवाओं की सहायता से स्वयं विकसित किए गए चिकित्सा प्रॉटोकॉल, बेहतर क्वारंटीन फेसिलिटी एवं प्रबन्धन, कोरोना जांचों के लिए अपनाए गए मॉडल, राज्य सरकार द्वारा श्रमिक, दिहाड़ी मजदूरों और हर जरूरतमंद के लिए लागू किए गए राहत पैकेज, लॉकडाउन से पहले एवं लॉकडाउन के बाद में उठाए गए कदमों के बारे में पहले से काफी पढ-सुन रखा था।
जयपुर हवाई अड्डे पर 22 मई से 4 अप्रैल तक 18 फ्लाइट्स में 2357 लोग राजस्थान पहुंचे। ये फ्लाइट्स कजाकिस्तान, कुवैत, ज्यॉर्जिया, टोरंटो कनाडा, तजाकिस्तान, यूक्रेन, दुबई, मस्कट, मनीला एवं मास्को से प्रवासियों को लेकर यहां आईं। ओमान से लौटे उदयपुर निवासी भरत जोशी ने कहा, काफी तारीफ सुनी थी ओमान में कि राजस्थान ने कोरोना पर काफी कन्टोल कर रखा है। ओमान से आए चूरू जिले के जाकिर हुसैन बोले कि कोरोना पर नियंत्रण में मुख्यमंत्री की तारीफ हो रही है। ओमान में उन्हें भारत का नम्बर एक मुख्यमंत्री बताया जा रहा है।
कनाडा से आए उदयपुरवासी गौरव ने कहा, जैसे ही जयपुर पहुंचा हूं तो काफी पॉजिटिव वाइब्स आई हैं। फेमिली से मिलूंगा जल्दी ही। सीएम गहलोत ने काफी अच्छे काम किए हैं। मैं उनको फॉलो कर रहा था ऑनलाइन, यूट्यूब वगैरह पर। माइग्रेन्ट्स के लिए भी अच्छा काम किया है।
रूस से लौटे करौली के मेडिकल छात्र मोहन चतुर्वेदी ने बताया कि राजस्थान में रूस से ज्यादा अच्छा काम हो रहा है। मुख्यमंत्री गहलोत के नेतृत्व में जिलों से लेकर गांव तक कोरोना से मुकाबले के लिए बेहतर काम किए गए हैं। रूस में तो लॉकडाउन भी अच्छी तरह फॉलो नहीं किया जा रहा है। यहां टेस्टिंग के नम्बर भी काफी अच्छे हैं।

press-vani
हम लोगों की बात...
press-vani ad