press-vani
  • press-vani
  • press-vani
  • press-vani
एसओजी को विधायकों की तलाश, कोर्ट से गुहार

राजस्थान का सियासी घटनाक्रम में वायरल ऑडियो के संबंध मे पूछताछ करने शुक्रवार को होटल पहुंची राजस्थान स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) की टीम को कांग्रेस विधायक भंवरलाल शर्मा समेत विधायक होटल में नहीं मिले। एसओजी ने करीब 15 मिनट तक होटल में छानबीन की। एसओजी के एडीजी अशोक राठौड़ ने कहा कि विधायकों ने होटल बदल लिया है। इसके कारण टीम को वहीं रुकने के लिए कहा गया है। दूसरे होटलों के बारे में जानकारी ली जा रही है। भंवरलाल पायलट खेमे के विधायक हैं। इसबीच एंटी करप्शन ब्यूरो ऑडियो टेप कांड को लेकर कोर्ट पहुंच गया। ब्यूरो ने पायलट गुट के विधायक भंवर शर्मा, विश्वेन्द्र सिंह, संजय सिंह, गजेन्द्र सिंह को आवाज के नमूने देने के आदेश जारी करने का अनुरोध किया है।
हरियाणा पुलिस ने शुक्रवार को पहले एसओजी टीम को होटल में दाखिल होने से रोक दिया था। पुलिस का कहना था कि सभी दस्तावेजों की जांच के बाद ही टीम को होटल में दाखिल होने दिया जाएगा। बाद में उसे होटल में एंट्री दी गई। आईटीसी मानेसर होटल के आसपास भी बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात है।
इसबीच, शनिवार को कांग्रेस के नए प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने जयपुर में प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि एसओजी एक ऐसी संस्था है जो कहीं भी अपराधियों को पकड़ने के लिए जा सकती है। अगर वहां की सरकार उसे रोकने की कोशिश करेगी तो कानून राज नहीं, अराजकता का माहौल हो जाएगा। हरियाणा सरकार ने विधायकों को चोर दरवाजे से निकालने के लिए एसओजी को होटल के बाहर मानेसर में रोका था। क्या ये सही है? क्या सचिन पायलट और कांग्रेस के विधायक बताएंगे कि उन्हें अपने ही राज्य की पुलिस पर भरोसा क्यों नहीं है?

इससे पहले शनिवार को ही भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने भी कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। संबित पात्रा ने तो यहां तक कह दिया था कि राजस्थान में सरकार लोगों की प्राइवेसी भंग कर रही है और कॉल रिकॉर्डिंग इसका प्रमाण भी है। उन्होंने पूछा, संजय जैन कौन है? टेप में शामिल संजय जैन कौन व्यक्ति है? इस पर मैं क्यों जवाब दूं, क्योंकि हम इसे मैन्युफैक्चर्ड झूठ मानते हैं। पात्रा ने कहा, क्या भाजपा ही सबकुछ कंट्रोल कर रही है? बिल्कुल नहीं, ये उनके पाप हैं। हम लगातार कह रहे हैं कि ऑडियो टेप मैन्युफैक्चर्ड है। पात्रा ने इस मामले की सीबीआई से जांच कराने की मांग भी की।
गुरुवार रात जो ऑडियो वायरल हुए वे विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़ी बातचीत के बताए जा रहे हैं। इनमें एक व्यक्ति खुद को संजय जैन और दूसरा खुद को गजेंद्र सिंह बता रहा है। वहीं, बातचीत में भंवरलाल शर्मा नाम का भी जिक्र है। ऑडियो में एक व्यक्ति कह रहा है कि जल्द ही 30 की संख्या पूरी हो जाएगी। फिर राजस्थानी में वह विजयी भव: की बात भी कह रहा है। एक व्यक्ति बातचीत के दौरान कह रहा है कि 'हमारे साथी दिल्ली में बैठे हैं...वे पैसा ले चुके हैं। पहली किस्त पहुंच चुकी है।' बातचीत के दौरान खुद को गजेंद्र सिंह बताने वाला व्यक्ति सरकार को घुटने पर टिकाने की बात कर रहा है।

press-vani
हम लोगों की बात...
press-vani ad